WhatsApp Group Join Now

Babul tree in Hindi । बबूल पेड़ की जानकारी हिंदी में

Babul tree in Hindi:- जय हिंद दोस्तों आज हम लोग बात करने वाले हैं। ऐसे पेड़ के बारे में जो हमारे भारत में पाए जाते हैं। लेकिन बहुत कम मात्रा में पाए जाते है। और यह पेड़ केवल पहाड़ी इलाके में ही अधिक पाई जाती है। जी हां दोस्तों हम बात करने वाले हैं। बबूल पेड़ के बारे में आज हम लोग बबूल के पेड़ से संबंधित जितनी भी जानकारी हम आप तक पहुंचाने का काम करेंगे दोस्तों अगर कुछ जानकारी छूट जाती है। तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं।

Information of Babul tree in Hindi | । बबूल पेड़ की जानकारी

बबूल पेड़ का इतिहास

मूल रूप से बबूल का पेड़ जो है। वह अफ्रीका और दक्षिण एशिया का पेड़ का प्रजाति है। अगर इसकी इतिहास की बात करें तो इसका उपयोग मध्यकाल में बैधो के द्वारा किया जाता था दवाई बनाने के लिए किया जाता था विशेषज्ञों का माने तो बबूल पेड़ का उपयोग 16वी या 17 वीं शताब्दी में किया जाने लगा

  बबूल पेड़ का वानस्पतिक नाम एवं अन्य नाम

बबूल पेड़ का वानस्पतिक नाम आकास्या नीलोतिका हैं। बबूल को हिंदी में कीकर, अंग्रेजी में acacia tree, संस्कृत में दीर्घकंटका, तेलुगु में बबूरम, दुम्मा , तमिल में कारूबेल, मराठी में बाबुल, गुजराती में बाबल कहते हैं।

 

 

 

 

 

बबूल के पेड़ में पाए जाने वाले पोषक तत्व और विटामिन

बबूल के पेड़ में पाए जाने वाले पोषक तत्व आयरन, वसा, प्रोटीन, जस्ता, फास्फोरस, जिंक, अधिक पाए जाते हैं। इसके अलावा बबूल के पेड़ में पाए जाने वाले तत्व एंटी हेमोस्टेटिक, एंटीहिस्टामिनिक, एंटीबैक्टीरियल, इसके अलावा छाल के गोंद बनाया जाता है।

Benefits of babul tree In Hindi | बबूल पेड़ के फायदे

बाल को घना एवं मजबूत बनाना

बाबुल में ऐसे एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं जो बाल झड़ना, कामजोर बाल, बाल पकना आदि समस्याओं से राहत दिलाता है।

घुटने के दर्द को कम करने का काम करता है।

बाबुल वृक्ष के चूर्ण को सरसों तेल के साथ मिश्रण करके उपयोग करने से घुटने का दर्द, कमर दर्द, जैसे अनेकों दर्द से राहत दिलाता है।

दांत को मजबूत बनाना

बबूल के पेड़ को अगर दातुन के रूप में प्रयोग करते हैं। तो आपका दांत मजबूत हो सकता है। क्योंकि बबूल के पेड़ में एंटी हेमोस्टेटिक, एंटी बैक्टीरियल, पाया जाता है। जो दांतो के लिए लाभकारी हो सकता है।

स्किन के लिए फायदेमंद होता है।

बबूल के पेड़ में बहुत ऐसे औषधि पाए जाते हैं। जो आपके स्किन के लिए काफी फायदेमंद होता है। क्योंकि आपके चेहरे के फुंसी, दाग, धब्बे को दूर करने का काम करता है। जिसके कारण से आपका चेहरा खिल जाता है। और चेहरे पर गोरापन आ जाता है।

सफेद दाग से छुटकारा दिलाता है।

  • बबूल के पेड़ में प्रोटीन, आयरन, वसा, जस्ता आदि भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो सफेद दाग को समाप्त करने के लिए सहायक हो सकता है।
  • बबूल के पत्ते को फुलाकर उसको आंख में लगाने से आंखों से संबंधित समस्या का समाधान करता है।
  • बबूल के बीज को पीसकर उसको गोला बनाकर चीनी के साथ खाने से पुरानी खांसी दूर हो सकता है।

बबूल पेड़ का नुकसान

मधुमेह रोगी बबूल के पेड़ से संबंधित किसी भी वस्तु का सेवन डॉक्टर के सलाह के बाद ही कर सकते हैं।

उच्च रक्तचाप वाले बबूल के चूर्ण का सेवन डॉक्टर के सलाह के बाद ही कर सकते हैं।

Benefits Of Babul Gond in Hindi | बबूल के गोंद के फायदे

बबूल का पेड़ रेतीले जगह पर पाई जाती है। और इसके बीज और पत्ते के कई तक तरह के फायदे हैं। उसी तरह इसके गोंद के भी बहुत फायदे हैं। आज हम इस के गोंद के बारे में जानकारी देंगे।

वजन घटाने में सहायक होता है।

दोस्तों अगर आपका वजन ज्यादा है। अगर आपको वजन कम करनी है। और सामान्य रखनी है। तो आप बबूल के गोंद का सेवन कर सकते हैं।

बदन दर्द से छुटकारा दिलाता है।

दोस्तों बबूल के गोंद और उसमें हल्का चीनी को मिलाकर इसको रोजाना सुबह खाली पेट एक चम्मच सेवन करने से आपको बदन दर्द से आराम मिल सकता है।

बबूल पेड़ का सामान्य जानकारी | information of babul tree in hindi 

  • बबूल का पेड़ पूरी दुनिया के कुछ हिस्सों में पाई जाती है। जैसे अफ्रीका दक्षिण, दक्षिण एशिया यानी भारत के कुछ राज्य में बबूल का पेड़ पाया जाता है। भारत के कुछ राज्य जहां बबूल के पेड़ पाए जाते हैं। वह इस प्रकार से हैं। राजस्थान, गुजरात, पंजाब, झारखंड आदि राज्यों में बबूल का पेड़ पाया जाता है।
  • पौराणिक कथाओं के अनुसार हमारे पूर्वजों के द्वारा बबूल के पेड़ की पूजा करते थे क्योंकि बबूल के पेड़ में भगवान विष्णु जी का कृपा था और उनका निवास भी था इस पेड़ में इसलिए इसकी पूजा किया जाता था
  • पूरे विश्व में बबूल का पेड़ सबसे ज्यादा अफ्रीका में पाया जाता है। भारत का स्थान दूसरा है।
  • ऐसा माना जाता है। कि घर के पास बबूल का पेड़ रहता है। तो उस घर में हमेशा सुखी शांति बनी रहती है। और घर में धन का आगमन भी होते रहता है।
  • बबूल पेड़ की लकड़ी बहुत ही मजबूत होती है। जिसका उपयोग कुर्सी आदि बनाने में किया जाता है।
  • बबूल की एक पेड़ की कीमत 40 से 50 हजार तक होता है।
  • बबूल के पेड़ की उम्र 180 से 200 साल तक होती है।
    इस पेड़ की जड़े बहुत मजबूत होती है।

दोस्तों अगर बबूल के पेड़ की कटाई ऐसी ही चलती रहे तो वह दिन दूर नहीं जब यह पेड़ विलुप्त की श्रेणी में आ जाएगा इसलिए आज से ही इस पेड़ का बचाव करें और ज्यादा से ज्यादा इस पेड़ को लगाने की कोशिश करें। वरना आने वाला समय में यह पेड़ विलुप्त हो सकता है।

दोस्तों आशा करता हूं। कि आपको Babul tree in Hindi कि  जानकारी अच्छी लगी हो अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो हमारे पेज को लाइक जरूर करें और आप हमें कमेंट करके अपनी राय बता सकते हैं।

जय हिंद।

और पढ़ें

मेपल वृक्ष की पूरी जानकारी

नारियल वृक्ष की पूरी जानकारी यहां से जाने

Leave a Comment