WhatsApp Group Join Now

balsam flower in hindi। बालसम फूल की पुरी जानकारी

Balsam flower in hindi :- जय हिंद दोस्तों, बालसम एक वार्षिक पौधा है इसके फुल वर्षा ऋतु के समय खिलती है, जो लाल, गुलाबी, पीला, नीला, बैंगनी, सफेद जैसे रंगों में खिलती है। बालसम फूल मधुमक्खियां, तितलियां को अपनी ओर आकर्षित करने में सक्षम है, जो इस फूल को बेहद खास बनाती हैं। बालसम फूल का वैज्ञानिक नाम Impatiens है जो उष्णकटिबंधीय एवं शीतोष्ण वनों में इसकी उपस्थिति होती है। भारत के मिजोरम नामक राज्य में बालसम फूल की मौजूदगी सबसे अधिक हैं।
दोस्तों आज हम अपनी लेखन Balsam flower in hindi में Balsam flower से संबंधित जितने भी महत्वपूर्ण जानकारी एवं प्रश्न है उन सभी को बेहद आसान शब्दों में आपके साथ साझा करने की प्रयास करेंगे। हमारी लेख उनके लिए मददगार होगी जो Balsam flower के बारे में जानना चाहते हैं।

Information of balsam flower in hindi। बालसम फूल की पुरी जानकारी

पौधा :- 30 से 50 सेंटीमीटर (12 से 15 इंच) लंबी एवं 4 से 8 सेंटीमीटर चौड़ी होती हैं, बालसम का फूल इम्पेतिइंस बाल्समिना जाती से अपना संबंध रखता है।

पत्ते :- बालसम के पत्ते 8 से 12 सेंटीमीटर लंबी एवं 2 से 3 सेंटीमीटर चौड़ी होती है जो आकार में लंबी एवं पतली और दिखने में नीले एवं हरे रंग का होता है।

फूल :- बालसम का फूल 8 से 10 सेंटीमीटर लंबी एवं 7 से 8 सेंटीमीटर चौड़ी होती है। बालसम दिखने में गुलाबी, नीला, बैंगनी, सफेद एवं लाल रंग का होता है।

जीवनकाल :- बालसम एक वार्षिक पौधा है, इसके फुल 5 से 10 दिनों तक जीवित रहते हैं।

निवास स्थान :- बालसम फूल मूल निवास स्थान भारत है। भारत के म्यांमार एवं मिजोरम राज्य में इस फूल की उपस्थिति अधिकांश हैं। वही अमेरिका, यूरोप एवं अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय वनों में इस फूल को देखा गया है।

balsam flower

Use of in hindi। बालसम फूल का उपयोग

  • सनातन धर्म में बालसम फूल को पवित्र माना क्या है, इसके फूल का उपयोग मंदिरों में पूजा के रूप में की जाती है।
  • गुलदस्ते एवं सजावटी सामानों में इसका उपयोग किया जाता है।
  • म्यांमार में इस फूल को गुलाब फूल का दर्जा दिया गया और प्रेमी जोड़ा प्रेम प्रसंग में बालसम फूल का ही उपयोग करके है।

Health Benefits of balsam flower in hindi। बालसम फूल का स्वास्थ्य लाभ

  • बालसम फूल में एंटीफंगल गुण होता है, जो वायरस को फैलने से बचाता है।
  • बालसम फूल के पौधे में ऐसे एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते है जो हड्डियों के दर्द में राहत दिलाने का काम करता है।
  • सांप के बीस को काफी हद तक नियंत्रित रखने का काम करता है बालसम का फूल जो इस फूल को एक अलग पहचान देती है।
Species of balsam flower in hindi । बालसम फूल की महत्वपूर्ण प्रजातियां

पूरी दुनिया में बालसम फूल की लगभग 1000 प्रजातियां मौजूद है इनमें से अधिकांश प्रजातियां भारत में निवास करती है इसलिए बालसम फूल का मूल निवास स्थान भारत है।

1. Himalayan balsam। हिमालयन बालसम :- पर्वतीय इलाकों में पाए जाने वाला एक खूबसूरत फूल है जिसका मूल निवास स्थान भारत के म्यांमार राज्य है।

2. Touch me not balsam । टच मि नोट बालसम :- बालसम फूल की वह प्रजाति है जिसमें सबसे अधिक औषधि की मात्रा होती हैं जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है, इसका मूल निवास स्थान अमेरिका है।

3. Small balsam । स्मॉल बालसम :- बालसम फूल की सबसे छोटी प्रजाति है जो घने जंगलों में पाई जाती है इसकी उपस्थिति यूरोपीय देश है।

4. Balsaminaceae । बालसमिनेस :- बालसम फूल की सबसे खूबसूरत प्रजाति है जो दिखने में गुलाबी रंग की होती है , इसकी उपस्थिति भारत, नेपाल, म्यांमार,भूटान जैसे देशों में है।

निष्कर्ष

दोस्तों मुझे पूरा उम्मीद है कि आपको हमारा लेख balsam flower in hindi की जानकारी अच्छी तरह से समझ में आई होगी और इस लेख से संबंधित पूरी जानकारी प्राप्त हो गई होगी। अगर आपको हमारा लेख पसंद आई होगी तो आप अपने मित्रों एवं रिश्तेदारों के साथ शेयर जरूर करें जिससे हमें मोटिवेशन मिल सके और ऐसे ही महत्वपूर्ण जानकारी के लिए हमारे वेबसाइट को फॉलो कर सकते हैं।

इन्हें भी पढ़ें

पियोनिया फूल की पूरी जानकारी

पत्थर फूल की पूरी जानकारी

Leave a Comment