WhatsApp Group Join Now

About coconut tree in hindi | नारियल वृक्ष की महत्वपूर्ण जानकारी

Coconut Tree in Hindi :- जय हिंद दोस्तों, आज हम अपनी लेख में नारियल वृक्ष से संबंधित जानकारियों को आसान भाषा में समझने वाले हैं। पूरी दुनिया में नारियल की लगभग 80 प्रजातियां मौजूद है। नारियल ताड़ परिवार से संबंध रखता है इसका वैज्ञानिक नाम कोकोस न्यूसीफेरा है। इसकी लंबाई 20 से 25 मीटर के बीच होती है। कच्चे नारियल जिसे डाभ भी कहा जाता है इसके पानी में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं, इसके सेवन से शरीर स्वस्थ रहता है। हिंदू धर्म में नारियल को पवित्र माना गया है। नारियल को भगवान शिव का रूप माना गया है।

आज हम अपनी लेख Coconut Tree in Hindi से संबंधित जानकारी को आसान भाषा में समझने की कोशिश करेंगे। जिससे आप नारियल के बारे में जान सकेंगे और अपने ज्ञान को बढ़ा सकते है।

नारियल वृक्ष (Coconut Tree) की महत्वपूर्ण जानकारी

1. आकार :- नारियल वृक्ष की ऊंचाई 20 से 25 मीटर तक होती है। इसका फैलाव 2 से 2.5 मीटर हो सकती है। जो जो मेले भूरे रंग की होती है।

2. पत्ते का आकार :- नारियल वृक्ष के पत्ते 1 से 1.5 मीटर लंबे होते हैं, जो बीच से चीरे होते हैं और हरे रंग के होते हैं। नारियल पत्ते का उपयोग झाड़ू बनाने में किया जाता है।

3. जीवनकाल :- नारियल वृक्ष का औसतन जीवन काल 70 से 80 साल के बीच होता है। वही Tall coconut नामक प्रजाति का नारियल वृक्ष 100 वर्ष तक जीवित रहता है। और Dwarf coconut नामक प्रजाति का नारियल वृक्ष मात्र 45 से 50 वर्ष तक जीवित रहता है।

coconut tree

नारियल वृक्ष (coconut tree) के अद्भुत तथ्य

नाम हिंदी में                 –                         नारियल
अंग्रेजी में                     –                         coconut tree
संस्कृत में                     –                        नालिकेर
वैज्ञानिक नाम                –                        कोकोस न्यूसीफेरा
जीवन काल                   –                        70 से 80 वर्ष
परिवार                         –                       ताड़
निवास स्थान                  –                      पूरी दुनिया

नारियल फल के फायदे

नारियल के फल में कई सारे पोषक तत्व और विटामिन पाए जाते है, जिसके सहयोग से हमारे शरीर में अनेकों गुणकारी लाभ प्राप्त होते है जिसको हम इस प्रकार से देख सकते है।

पोषक तत्व :- प्रोटीन, शुगर, फैट, मैग्नीशियम, सोडियम, कैलोरी, मैग्नीज, फोलेट, आयरन, कैल्शियम

प्रोटीन :- विटामिन बी6, विटामिन सी, विटामिन ए

पाचन शक्ति को सुदृढ़ बनाना
नारियल के फल में मैग्नीशियम, कैलोरी, मैगनीज, फोलेट, आयरन, कैल्शियम, सोडियम आदि भरपूर मात्रा में उपस्थित है। जो पाचन प्रक्रिया को बेहद मजबूत एवं सुदृढ़ बनता है।

वायरस एवं बीमारियों से निजात दिलाना
नारियल के नियमित रूप से सेवन करने से शरीर में ऊर्जा की आपूर्ति कम नहीं होती है। जिससे हमारे शरीर का रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ता है। जो बीमारियों एवं वायरस से लड़ने में कारगर सिद्ध होता है।

उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करना
अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो आप नारियल का सेवन कर सकते हैं इसमें उपस्थित पोषक तत्व उच्च रक्तचाप को नियंत्रित रखने में सहायता करती है।

 

नारियल पानी (डाभ) के फायदे

वजन कम करना
नारियल के पानी में प्रोटीन, शुगर, फैट, मैग्नीशियम, सोडियम, कैलोरी, मैग्नीज, फोलेट, आयरन, कैल्शियम आदि भरपूर मात्रा में पाई जाती है जो वजन कम करने में सहायता करती है।

कोलेस्ट्रोल को कम करना
सुबह खाली पेट नारियल पानी के सेवन से शरीर के चर्बी को काम करता है। जो बीमारी होने की संभावना को कम करता है।

रक्त का शुद्धिकरण
नारियल के पानी में कुछ ऐसे मिनिरल्स एवं विटामिन पाए जाते है। जो रक्त के शुद्धीकरण में सहायक होता है।

ऊर्जा का स्रोत
नारियल पानी उन पोषक तत्व के श्रेणी में आता है जो तुरंत ऊर्जा प्राप्त कराता है। क्योंकि इसमें प्रोटीन, शुगर, फैट, मैग्नीशियम, सोडियम, कैलोरी, मैग्नीज, फोलेट, आयरन, कैल्शियम आदि भरपूर मात्रा में उपस्थित है। यदि आप एक एथलेटिक हैं तो आप इसका सेवन कर सकते हैं।

प्रेगनेंसी में रामबाण
प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को हो रही कमजोरी एवं ऊर्जा की कमी को नारियल का पानी काफी हद तक दूर करता है। आप डॉक्टर के सलाह से नारियल का पानी नियमित रूप से पी सकते हैं।

पेशाब की समस्या का समाधान 
नारियल के पानी में ऐसे मिनरल्स पाए जाते है जो पेशाब में होने वाले पीलापन को ठीक करता है।

सूखे नारियल (गड़ी) के फायदे
नारियल के सूखे भाग को स्थानीय भाषा में गड़ी कहते है इसके कई अद्भुत फायदे है। जो निम्न है।

बुखार में राहत
सूखे नारियल में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है जो सर्दी खांसी एवं बुखार को दूर भगाता है।

अनिंद्रा में राहत
सूखे नारियल में ऐसे टॉक्सिन पाए जाते है, जो अनिद्रा की समस्या में काफी राहत दिलाता है।

हिमोग्लोबिन में बढ़ोतरी
सूखे नारियल में कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, सोडियम, जिंक, प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन भरपूर मात्रा में उपलब्ध है। जो हिमोग्लोबिन को बढ़ोतरी करने में सहायता करती है।

नारियल तेल से होने वाले फायदे

हड्डियों को मजबूत बनाना
नारियल तेल में पैरोक्सिडेसन लिपिड अधिक मात्रा में पाई जाती है जो हड्डियों के लिए एंटीऑक्सीडेंट का काम करता है जिसके वजह से हड्डी मजबूत रहती है।

बाल को मजबूत बनाना
नारियल तेल में आयरन, जिंक, कैल्शियम, ऊर्जा, जल की उपस्थिति होती है, जो बाल को मजबूत बनाने में सहायता करती है।

रूसी में रामबाण
अल्फा टेकोफोरोल, टोटल सैचुरेटेड फैटी एसिड, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड, फैटी एसिड की उपस्थिति नारियल तेल में होती है, जो बालों की रूसी को जड़ से खत्म करता है।

बाल को जल्दी बढ़ने में सहायता करना
नारियल तेल में टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, अल्फा टेकोफोरोल, टोटल सैचुरेटेड फैटी एसिड कुल फैट की उपस्थिति होती है, जो बाल बढ़ाने में सहायता करती है।

गंजेपन में राहत
नारियल तेल में आयरन, जिंक, मोनोअनसैचुरेटेड, आदि की उपस्थिति होती है, जो बाल झड़ना, बाल कमजोर होना इन सब समस्या को दूर करता है।

नारियल वृक्ष (coconut tree) के फायदे
  • नारियल वृक्ष के लकड़ी से प्लाईवुड, नाव, फर्नीचर आदि बनाए जाते हैं।
  • नारियल के पत्ते काफी मजबूत होती है, जिससे झाड़ू बनाई जाती है।
हिंदू धर्म में नारियल की मान्यता
  • नारियल में माता लक्ष्मी जी का वास होता है इसलिए हिंदू धर्म में शुभ कार्य के आरंभ से पहले नारियल को पूजा जाता है।
  • घर में नारियल वृक्ष लगाने से धन का आगमन वा परिवार सुखी संपन्न रहता है।
  • नारियल में भगवान विष्णु एवं ब्रह्मा जी का वास होता है।
  • हिंदू धर्म में नारियल को पवित्र माना गया है।
  • नारियल को हवन में प्रयोग किया जाता है।
नारियल वृक्ष (coconut tree) की प्रजातियां 
पूरी दुनिया में नारियल की लगभग 80 प्रजातियां पाई जाती है। पूरी दुनिया में नारियल का सबसे बड़ा उत्पादक देश भारत है, इसके बाद इंडोनेशिया एवं फिलिपींस नामक देश आते हैं। भारत में केरल, गोवा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक, उड़ीसा, गुजरात में नारियल का उत्पादन किया जाता है। 
नारियल की कुछ प्रजातियां जो इस प्रकार है। 
Macapuna coconut, king coconut, VHC1 coconut, Malayan yellow Dwarf coconut, 
Fiji Dwarf coconut, Green Dwarf coconut, Tall coconut, East coast tall coconut, golden malay coconut

नारियल वृक्ष (coconut tree) के 10 महत्वपूर्ण लाइन

1. नारियल वृक्ष 20 से 25 मीटर लंबे होते हैं।
2. हिंदू धर्म में नारियल को पवित्र फल माना गया है।
3. नारियल को अंग्रेजी में कोकोनट (coconut tree) कहते हैं।
4. नारियल का वैज्ञानिक नाम कोकोस न्यूसीफेरा है।
5. पूरी दुनिया में नारियल का उत्पादन सबसे ज्यादा भारत में होता है।
6. भारत में नारियल की पूरी दुनिया की 30 फ़ीसदी का उत्पादन होता है।
7. नारियल पानी को स्थानीय भाषा में डाभ करते है।
8. नारियल में माता लक्ष्मी जी का वास है।
9. भारत के केरल राज्य में नारियल का उत्पादन सबसे अधिक होता है।
10. नारियल ताड़ परिवार से संबंध रखता है।

दोस्तों मुझे यह जानकर बहुत खुशी होगी की आपको हमारा लेख Coconut Tree in Hindi बेहद पसंद आया हो और हमारे लेख से आपको कुछ जानकारी प्राप्त हुआ हो। अगर आप हमारी जानकारी प्रसन्न हुए हे तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

Leave a Comment