WhatsApp Group Join Now

Crane Bird in Hindi | सारस पक्षी की जानकारी

Crane Bird in Hindi – जय हिंद दोस्तों, दोस्तों मुझे आशा है। कि आप सब स्वस्थ और सुखी होंगे। तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं सारस पक्षी के बारे में जो उड़ने के क्रम में सबसे बड़ी पक्षी है। साथ में बेहद खूबसूरत पक्षियों में से एक है। इसे प्यार का प्रतीक माना जाता है, दुनिया भर में सारस की लगभग 15 प्रजातियां पाई जाती है जिनमें से 5 प्रजाति भारत में पाई जाती है। अंटार्टिका एवं दक्षिणी अमरीका महाद्वीप में सारस की एक प्रजाति नहीं पाई जाती है। आज हम अपनी लेख Crane Bird in Hindi के बारे में पूरे विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे।
सारस पक्षी की जानकारी।

Information of Crane Bird in Hindi | सारस पक्षी की जानकारी

1. सरस एक विशालकाय पक्षी है जो ग्रुइफोर्मीस परिवार से संबंधित एवं इसके टांगे व गर्दन काफी लंबे होते हैं जो गुलाबी रंग का होता है।

2. सारस पक्षी 5 से 6 फुट लंबा एवं 7 से 8 kg के आसपास इसका वजन होता है।

3. दुनिया भर में सारस की कुल 15 प्रजातियां थी लेकिन वर्तमान में इसकी केवल 8 प्रजातियां ही बची है।

4. रेड क्रोनेट नामक प्रजाति की सारस सबसे भारी होती है। एवं सबसे बड़ी उड़ने वाली पक्षी क्रेन सारस है।

5. सरस को प्रवासी पक्षी भी कहा जाता है क्योंकि अक्टूबर माह में साइबेरिया नामक देश से उड़कर भारत आते हैं, और यही पर 6 महीना बिताने के बाद पुनः मार्च-अप्रैल में वापस साइबेरिया चले जाते हैं।

6. सारस पक्षी दलदलिये इलाकों में रहना पसंद करते है, और यहीं पर अपना घोंसला बनाते हैं।

7. मादा सारस एक समय में 2 अंडे देती है, अंडे से बच्चे बाहर आने में 25 से 30 दिनों का समय लगता है।

8. वैसे तो सारस शाकाहारी पक्षी है लेकिन कभी-कभी मछली को अपना शिकार बना लेती है, इसलिए सारस को सर्वाहारी की श्रेणी में रखा गया है।

9. बैलेरिका नामक प्रजाति का सारस अपनी घोंसला जमीन में ना बनाकर पेड़ में बनाती है, यही बात अन्य प्रजातियो के सारस से अलग बनाती है।

10. सारस आसमान में लगभग 30 से 40 हजार फीट की ऊंचाइयों में आसानी से उड़ सकता है।

11. सारस पक्षी के चोंच काफी बड़े व लंबे होते है जिसके सहयोग से सारस भोजन ग्रहण करते है।

12. सारस एक दूसरे से बात करने के लिए भिन्न-भिन्न आवाज निकालते हैं।

13. उड़ने के मामले में सबसे बड़ी पक्षी सारस है, जो उत्तर प्रदेश का राजकीय पक्षी है।

14. पूरी दुनिया की तुलना में सबसे ज्यादा सारस भारत में ही है। भारत में अधिकांश साइबेरियन सारस पाई जाती है, जो गंगा नदी के आसपास के इलाके में रहती है।

15. सारस मूल रूप से उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार राज्य के दलदलिए इलाके में रहते हैं, क्योंकि इस इलाके में भोजन का प्रबंध आसानी से हो जाता है।

16. सारस प्रजनन अधिकतर बारिश के मौसम में करते हैं। बारिश समाप्त होने के बाद माता सारस तेजी से नर सारस को आवाज देती है, इसके उत्तर में नर सारस अपनी चोंच को ऊपर उठा कर जोर से आवाज निकालता है और साथ में अपने पंख को फैलाता है, इसके पश्चात दोनों के बीच में प्रजनन शुरू होता है।

17. सारस एक बार जिससे प्रजनन कर ले तो वे पूरी जिंदगी भर साथ में रहते हैं। किसी कारणों से एक सारस की मृत्यु हो जाती है, तो दूसरी सारस खाना-पीना त्याग कर देती है, और तब तक ऐसा करती है जब तक कि उसकी मृत्यु हो ना हो जाए इसलिए सारस को प्यार का प्रतीक माना जाता है।

18. हिंदू धर्म में सारस को बहुत मान्यता प्राप्त है। पौराणिक कथाओं के अनुसार जब श्री महर्षि वाल्मीकि जी रामायण महाकाव्य को लिखने की शुरुआत करने वाले थे तो उसी क्रम में एक शिकारी के द्वारा सारस को मार दिया जाता है, और उसी समय सारस का जीवन साथी वहीं पर अपने प्राण त्याग देती है। यह सब दृश्य को महर्षि वाल्मीकि जी अपनी आंखों से देख लेते हैं, और उस शिकारी को श्राप देते हैं कि है मानव तुझे जिंदगी में कभी भी शांति ना मिले। और सारस के इसी पीड़ा को रामायण के श्लोक में महर्षि जी लिखते हैं।

19. सारस अधिकांश समय अपने परिवार के साथ बिताते हैं।

20. सारस पक्षी की उम्र लगभग 20 वर्ष होती है।

21. सारस पक्षी, नर एवं मादा दोनों एक समान दिखते हैं जिससे पहचानने में काफी कठिनाई होती है। अगर नर एवं मादा दोनों एक साथ हो तो आप आसानी से पहचान सकते हैं। क्योंकि नर सारस की तुलना में मादा सारस काफी छोटी होती है।

Other information of Crane Bird in Hindi

नाम – हिंदी में सारस, हिम सारस
अंग्रेजी में crane

वैज्ञानिक नाम – ग्रास एंटीगोन

आयु – 20 वर्ष लगभग

भोजन – फल, फूल, बीज, मछली, कीड़े, मकोड़े आदि

प्रजातियां – कुल 15, वर्तमान में 8 प्रजाति जीवित हैं।

निवास – गंगा नदी के आसपास

प्रतीक – प्रेम का प्रतीक

सारस की सबसे बड़ी प्रजाति – रेड क्रोनेट

सारस की सबसे तेज उड़ने वाली प्रजाति – क्रेन सारस

(International Union for Conservation of Nature) IUCN जिसकी मुख्यालय ग्लैंड स्विजरलैंड है। इसकी एक रिपोर्ट के अनुसार थाईलैंड, मलेशिया, फिलीपींस, पाकिस्तान जैसे देशों में सारस पक्षी पूरी तरह से विलुप्त होने के कगार पर है। भारत के कुछ ऐसे राज्य है, जहां पर सारस पक्षी विलुप्त हो गई है वह राज इस प्रकार है झारखंड, उड़ीसा, छत्तीसगढ़ आदि।

कुछ ऐसे कारण जिसके वजह से सारस पक्षी विलुप्त के कगार पर खड़ी है।

प्रदूषण :- फैक्ट्री एवं गाड़ियों से निकलने वाली विषैली गैस कार्बन मोनोऑक्साइड सीधे सारस के अंडे को प्रभावित करती है जिसके वजह से साल के बच्चे काफी कमजोर होते जा रहे हैं।

पर्यावरण :- जिस तरह से पर्यावरण में बदलाव हो रहा है कभी अधिक वर्षा होती है, तो कभी वर्षा ही नहीं होती है इसके वजह से आम जनता को ज्यादा तकलीफ नहीं होती है। लेकिन बहुत से जीव जंतुओं को नुकसान होता है उन्हीं में से एक सारस पक्षी है। सारस मुख्य रूप से दलदलीय इलाकों में अपना घोंसला बनाती है। और जब अधिक वर्षा होती है तो उसका घोषणा पानी में बह जाता है। और जब बारिश नहीं होती है। तो जितने भी दलदलीये जगह रहते हैं, वह सब सुख जाते हैं जिसके वजह से सारस भूख से मर जाते है।

शिकार :- बिहार, उड़ीसा, झारखंड ऐसे राज्य है, जहां के जनजातियों के द्वारा अभी भी सारस पक्षी का शिकार किया जा रहा है और उसके अंडे का खाने में प्रयोग करते हैं।

सारस पक्षी को कैसे सुरक्षित रखें?

हमें अत्यधिक मात्रा में पेड़ों की रोपाई करनी है।

जागरूकता अभियान चलाना होगा।

सरकार को पक्षियों के संरक्षण के लिए और राष्ट्रीय अभ्यारण का निर्माण करना होगा।

इसे भी पढ़े

Eagle bird in Hindi | बाज पक्षी के 35 अदभुत जानकारी

दोस्तों मुझे खुशी होगी कि हमारा लेख Crane Bird in Hindi आपको बेहद पसंद आया हो,
हमसे किसी भी प्रकार की जानकारी छूट गई है, तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।

Leave a Comment