WhatsApp Group Join Now

About information of daffodil flower in hindi | नरगिस फूल की पूरी जानकारी

Daffodil flower in hindi :- जय हिंद दोस्तों, आज हम सबकी पसंदीदा फूलों में से एक नरगिस फूल के बारे में बात करने वाले हैं। जिसको अंग्रेजी में Daffodil flower कहते हैं। नरगिस सर्वस्थानी पौधा है इसलिए इसकी उपस्थिति पूरी दुनिया में है। नरगिस फूल का वैज्ञानिक नाम नार्सिसस (Narcissus) है जो अपना संबंध अमेरीलिडेसी (Amaryllidaceae) परिवार से रखता है। पूरी दुनिया में इसकी कुल 26 प्रजातियां पाई जाती है। नरगिस फूल दिखने में लाल, सफेद, गुलाबी, नारंगी, नीला, पीला, बैंगनी आदि रंग की हो सकती हैं। इसके फूल में कई प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते हैं जो स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक सिद्ध होते हैं।

आज इस लेख में हम आपको Daffodil flower in hindi से संबंधित जितने भी प्रश्न एवं महत्वपूर्ण तथ्य होंगे उन सब को आसान भाषा में जवाब देने की कोशिश करेंगे। तो हमारे साथ अंत तक बन रहे जिससे आपको Daffodil flower की जानकारी आसानी से प्राप्त हो सके।

जाने कैसा होता है केतकी का फूल

Information of Daffodil flower in hindi । नरगिस फूल की पूरी जानकारी

पौधा :- नरगिस का पौधा भूरे रंग का होता है, जिसकी लंबाई 40 से 50 सेंटीमीटर (15 से 20 इंच) होती है।

पत्ते :- नरगिस पत्ते का रंग हरा, यह जड़ के समीप से निकलती है, जो 20 से 30 सेंटीमीटर (5 से 8 इंच) लंबी एवं 5 से 7 सेंटीमीटर चौड़ी जो दिखने में शंकु आकार की होती है।

फूल :- नरगिस बेहद नन्ही एवं खूबसूरत फूल है जो मात्र 5 से 7 सेंटीमीटर लंबी होती है। इसके कुल पांच पंखुड़ीया एवं बीच में खोपानुमा कली होती है, जो इसे बेहद खूबसूरत बनाती हैं। नरगिस फूल का रंग लाल, गुलाबी, पीला, नीला, सफेद, बैंगनी आदि होती हैं।

निवास स्थान :- यह एक ऐसी फूल है जो हर एक वातावरण में खिल सकती है। इसका पौधा बारहमासी होता है। इसलिए इसकी उपस्थिति पूरी दुनिया में है लेकिन कुछ ऐसे देश हैं जहां इसका उत्पादन अधिक किया जाता है वह देश भारत, चीन, अमेरिका, यूक्रेन, रूस, इंडोनेशिया, फ्रांस, ब्राजील आदि है।

जीवन काल :- नरगिस पौधे का औसतन जीवन काल 3 से 5 वर्ष के बीच होती है। वही इसके फूलों का जीवनकाल 3 से 4 दिन होता है।

Daffodil flower

Important Information of Daffodil flower in hindi । नरगिस फूल की महत्वपूर्ण जानकारियां

नरगिस फूल का अभी तक ऐसी कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं प्राप्त हुआ है जिससे इसका उपयोग रोगों के उपचार या किसी प्रकार की सेवन से संबंधित हो इसलिए आप इसका सेवन ना ही करें तो अच्छा है।

केवल इसका उपयोग सजावटी सामग्री में किया जाता है।

नरगिस फूल की प्रजातियां । Species of Daffodil flower in hindi

1. Wild daffodil । वाइल्ड डैफोडिल :- यूरोपीय देशों में इस फूल का बहुत बड़ा-बड़ा गार्डन बनाया गया है। इसके फूल दिखने में पीला एवं सफेद रंग का होता है। वाइल्ड डैफोडिल की उपस्थिती यूरोपीय देश है।

2. Petticoat daffodil । पेटीकोट डैफोडिल :- इसकी उपस्थिति सदाबहार वन में अधिक होती है जो अमेरीलिडेसी परिवार से आता है। यह दिखने में पीले रंग की होती है। इसका मूल निवास स्थान स्पेन, पुर्तगाल, फ्रांस, ब्राज़ील एवं अर्जेंटीना है।

3. Bunch flowered daffodil । बंच फ्लावर्ड डैफोडिल :- नरगिस फूल की सबसे खूबसूरत प्रजाति में से एक है इसका अधिकांश उपयोग सजावटी सामग्री में किया जाता है। यह दिखने में सफेद एवं पीला रंग का होता है। इसका मूल निवास स्थान चीन, भारत, नेपाल, म्यांमार आदि देश है।

4. Cyclamen flowered daffodil । साइक्लेमन फ्लावर्फ डैफोडिल :- नरगिस के इस फूल को काफी विचित्र तरीके से बनाया गया है यह जितना आगे की ओर खुला हुआ है उतना ही पीछे की ओर भी खुला है। यह दिखने में पीले रंग की होती है। इसका मूल निवास स्थान स्पेन, पुर्तगाल, फ्रांस आदि देश है।

5. Poet’s narcissus । पोएट नार्किसस :- नरगिस की सबसे पुरानी प्रजातियों में से एक है। जो दिखने में गुलाबी एवं सफेद रंग की होती है। इसका मूल निवास स्थान फ्रांस, रूस है।

Daffodil flower

आप कैसे नरगिस फूल को उगा सकते हैं।

मिट्टी :- इसकी खेती के लिए उपयुक्त लाल मिट्टी मानी जाती है। अन्यथा आप अन्य प्रकार की मिट्टी में भी इसकी खेती कर सकते हैं बस मिट्टी की पीएच मान 6 से 7.5 के बीच होनी चाहिए।

बीज :- उच्च गुणवत्ता के बीज आप बीज भंडारण से प्राप्त कर सकते हैं।

बीज रोपण का सही समय :- बसंत ऋतु आगमन के क्रम में आप बीज की रोपाई कर सकते हैं।

बीज रोपण :- रोपाई वाले जगह को अच्छे से साफ सफाई कर लेनी है इसके पश्चात आप मिट्टी में वर्मी कंपोस्ट एवं घरेलू गोबर को अच्छे से मिश्रण करके बीज को लगा देनी है। और अल्प मात्रा में पानी का छिड़काव कर देनी है।

देखभाल

धूप :- प्रतिदिन कम से कम तीन से चार घंटे पौधे में धूप पड़ने देनी है।

पानी :- अल्प मात्रा में पानी का छिड़काव करते रहना है। जिससे पौधा नियमित रूप से विकसित हो सके।

सफाई :- पौधे के आसपास साफ सफाई करते रहें ताकि पौधे में किसी प्रकार का रोग न फैल सके।

पांच ऐसे प्रश्न जो नरगिस फूल से संबंधित पूछी जाती है।

1. क्या नरगिस फूल को पूजा सामग्री में इस्तेमाल किया जाता है?
Ans नहीं, अभी तक इसका कोई साक्ष्य प्राप्त नहीं हुआ है।

2. नरगिस फूल का उपयोग कहां किया जाता है?
Ans नरगिस फूल का उपयोग केवल सजावटी सामग्री में किया जाता है।

3. क्या नरगिस फूल का उपयोग स्वास्थ्य लाभ के लिए किया जा सकता है?
Ans जी नहीं, अभी तक कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं प्राप्त हुआ है जिससे हम नरगिस फूल का उपयोग स्वास्थ्य लाभ के लिए कर सकें।

4. नरगिस फूल का वैज्ञानिक नाम क्या है?
Ans नार्सिसस (Narcissus) है।

5. भारत के कौन-कौन से राज्य में नरगिस फुल पाए जाते हैं?
Ans छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, असम, मिजोरम, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश, झारखंड, पश्चिम बंगाल, गुजरात, राजस्थान आदि राज्य में पाए जाते हैं।

बहुत-बहुत धन्यवाद कि आपने हमारे लेख को अंत तक पढ़े, दोस्तों मुझे उम्मीद होगी कि हमारा लेख Daffodil flower in hindi की पूरी जानकारी आसानी से प्राप्त हो गई होगी अगर हमसे किसी प्रकार की जानकारी छूट गई है तो आप हमें कमेंट करके अवश्य बताएं ताकि हम अपने गलती पर सुधार कर सकें। और हमारी जानकारी आपको अच्छी लगी होगी तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें ताकि यह जानकारी उनको भी प्राप्त हो सके।

इन्हें भी पढ़ सकते हैं।

गुलबहार फूल की पूरी जानकारी

एस्टर फूल की संपूर्ण जानकारी

Leave a Comment