WhatsApp Group Join Now

lavender flower in hindi। लैवेंडर फूल की संपूर्ण जानकारी

lavender flower in hindi :- जय हिंद दोस्तों, लैवेंडर पथरीले क्षेत्रो में निवास करने वाला एक झाड़ी नुमा पौधा है, जो लगभग 30 इंच तक लंबा होता है और दिखने में गुलाबी, नीला, बैंगनी, सफेद एवं नीले रंग का होता है। लैवेंडर का वैज्ञानिक नाम लवंडुला (lavandula) है, जो लेमियासिय (lamiaceae) वंश से जुड़ा हुआ है। यह एक बारहमासी पौधा है जिसकी उपस्थिती अफ्रीकी, अमेरिकी, एशियाई एवं यूरोपीय देशों के पर्वतीय भागो में हैं।
आज हम अपनी लेख lavender flower in hindi में lavender flower से जुड़ी जितनी भी महत्वपूर्ण प्रश्न, समस्याएं एवं अन्य जानकारियो को आपके समक्ष बेहद आसान भाषा में रखने की कोशिश करेंगे ताकि आपलोगो को lavender flower की पूरी जानकारी प्राप्त हो सकेगी। हमारी लेख उनके लिए सहायक हो सकती है जो इस फूल के बारे में जानना रुचि रखते हैं।

Information of lavender flower in hindi। लैवेंडर फूल की संपूर्ण जानकारी

पौधा :- यह एक झाड़ी नुमा पौधा है, जो 50 से 60 सेंटीमीटर (20 से 25 इंच) तक लंबा, वही पौधा दिखने में बैंगनी रंग का होता है।

पत्ते :- लैवेंडर की पत्तियां अन्य पौधे की पत्तियों के तुलना में काफी आकर्षक एवं मनमोहक होती है, जो 4 से 5 सेंटीमीटर लंबी एवं 0.5 से 1 सेंटीमीटर तक चौड़ी होती है।

फूल :- इसके फूल में उपस्थित औषधीय गुण स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है। लैवेंडर का फूल 2 से 5 सेंटीमीटर तक लंबे वा घुंगरूले एवं सफेद, हरे, बैंगनी, गुलाबी रंग का होता है

जीवनकाल :- अगर अच्छे से पौधे की देखभाल की जाए तो पौधा 10 से 12 वर्षों तक जीवित रह सकता है, वही कुछ प्रजाति के पौधे 15 तक वर्ष जीवित रहते हैं।

निवास स्थान :- दक्षिणी अमेरिका, उत्तरी अमेरिका, अफ्रीका, यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के पथरीले भाग में पाए जाने वाला एक झाड़ी नुमा पौधा है।

lavender flower

Health Benefits of lavender flower in hindi। लैवेंडर फुल से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

  • इसके पंखुड़ियो से बने चाय के सेवन से खांसी, बुखार जैसी सामान्य रोगों को दूर करता है।
  • लैवेंडर में ऐसे एंटीऑक्सीडेंट की मौजूदगी होती है जो अनिंद्र की समस्या को खत्म करता है।
  • लैवेंडर के उपयोग से स्ट्रेस, तनाव से राहत मिल सकता है।

Oil benefits of lavender flower in hindi। लैवेंडर तेल से होने वाले फायदे

यूरोपीय एवं अमेरिकी देशों में लैवेंडर फूल का भारी मात्रा में खेती की जाती हैं, क्योंकि इसके तेल की मांग संपूर्ण विश्व में काफी ज्यादा है, जो स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है जिनको हम निम्न तरीके से जान सकते हैं।

  • प्रतिदिन नियमित रूप से इसके तेल को बाल में लगाने से बालों में मजबूती वा बाल की उम्र में वृद्धि जैसे लाभ प्राप्त होते हैं।
  • सील पेन एवं कमर दर्द में काफी लाभदायक होता है।
  • बड़े बुजुर्गों को कमर दर्द, घुटने का दर्द में काफी राहत दिलाता है।
  • लैवेंडर फूल के साथ साथ इसका तेल भी काफी सुगंधित होता है। स्नान करने के बाद तेल लगने से दिन भर तरो ताज़ा महसूस करवाता है।
  • बहुत ऐसी जगह में इसके तेल का उपयोग भोजन पकाने में करते हैं, इसके तेल से बने पकवान काफी स्वादिष्ट होती है। इसकी पुष्टि हमारी लेख नही करती हैं।
Species of lavender flower in hindi । लैवेंडर फूल की प्रमुख प्रजातियां

वर्तमान में इसकी कुल 45 प्रजातियां प्रकाशित है इनमे से कुछ महत्वपूर्ण प्रजातियों के बारे में बात करने वाले हैं।

1. French lavender। फ्रेंच लैवेंडर :- फ्रेंच लैवेंडर दुनिया के सबसे विचित्र फूलों में से एक है जिसका रंग बैंगनी वा निवास स्थान फ्रांस, इटली जैसे देश है।

2. Lavandula latifolia। लवंडूला लेटिफोलिया :- इसमें औषधीय गुण की मात्रा काफी अधिक होती है, जो दिखने में सफेद, पीला एवं गुलाबी रंग का होता है, इसकी उपस्थिति स्पेन एवं पुर्तगाल नामक देश में है।

3. English lavender । इंग्लिश लैवेंडर :- इंग्लिश लैवेंडर दिखने में बेहद खूबसूरत होता है, इसलिए इसका अधिकांश उपयोग पार्कों में किया जाता है यह फूल दिखने बैंगनी रंग का होता है इसकी उपस्थिति इंग्लैंड में है।

4. Fernleaf lavender । फर्नलीफ लैवेंडर :- अफ्रीका के पर्वतीय भागों में पाए जाने वाला सफेद, बैंगनी एवं गुलाबी रंगी फूल औषधीय गुण से भरपूर होती हैं जो अफ्रीकाई देशों में उपस्थित है।

5. Lavandula x intermedia। लवंडूला एक्स इंटरमीडिया :- लैवेंडर के इस प्रजाति का उपयोग तेल बनाने में किया जाता है। यह सबसे उच्च गुणवत्ता वाली प्रजाति है जो दिखने में बैंगनी एवं हरे रंग की होती है इसकी उपस्थिति भारत, नेपाल, भूटान, चीन जैसे देशों में है।

दोस्तों मुझे पूरा यकीन है कि आपको हमारा लेख lavender flower in hindi आप लोगों को बेहद पसंद आया होगा और इस लेख से संबंधित एक-एक जानकारी प्राप्त हो गई होगी। हमारा लेख आपको पसंद आया होगा तो आप अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ शेयर जरूर करें। अगर हमसे किसी प्रकार की जानकारी छूट गई है तो आप हमें टिप्पणी करके अवश्य बताएं।

इन्हें भी पढ़ें

बालसम फूल की पुरी जानकारी

मैगनोलिया फूल की पूरी जानकारी

Leave a Comment