WhatsApp Group Join Now

Swan Bird information in Hindi | हंस पक्षी की पूरी जानकारी

Swan Bird in Hindi – जय हिंद दोस्तों, हंस बहुत प्यारी पक्षी है। जो दिखने में सफेद एवं काले रंग के होते है जो इसकी खूबसूरती को और खास बनाती है। हंस का अंग्रेजी नाम Swan Bird और वैज्ञानिक नाम (Cygnus) सिग्नस है। दुनिया में इसकी 7 प्रजातियां मौजूद है। हिंदू धर्म में हंस की बहुत मान्यता है क्योंकि माता सरस्वती जी का वाहन हंस ही है।

हंस को प्यार का प्रतीक मानते हैं। यह बहुत शर्मीला पक्षी है जो तालाब, पोखरा, झील, नदी आदि में रहना पसंद करती है और घोंसला भी इन्हीं के आसपास बनाती है। माता हंस एक समय में 10 से 15 अंडे देती है। जो सफेद रंग के होते हैं।
दोस्तों आज हम अपनी लेखन में Swan Bird in Hindi के बारे मे आपको पूरी जानकारी साझा करने वाले हैं। तो हमारे साथ अंत तक बने रहे जिसके सहयोग से आप इससे संबंधित पूरी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

Information of Swan Bird in Hindi | हंस पक्षी की पूरी जानकारी

 

1. हंस पक्षी दिखने में सफेद एवं काला रंग का हो सकता है इसकी चोंच हल्का पीले रंग की होती है। भारत में सफेद रंग के हंस पाए जाते हैं तो वहीं ऑस्ट्रेलिया में काले रंग के हंस पाए जाते हैं।

2. हंस पक्षी अपना घोंसला तालाब, नदी, नहर, पोखरा, झील के आसपास के झाड़ियों में बनाती है।

3. हंस की औसतन लंबाई 60 इंच होती है यह आकार एवं बनावट में बतख के समान दिखती है। हंस की रीढ़ की हड्डी में लगभग 23 जोड़ी होती है जो अन्य पक्षियों की तुलना में सबसे अधिक है।

4. मादा हंस जिसको हंसनी भी कहा जाता है यह एक समय में 10 से 15 अंडे देती है। अंडे से बच्चे बाहर निकलने में 40 से 45 दिनों का समय लेते है तब तक हंसनी अंडे को सेती है।

5. हंसनी के बच्चे पैदा होने के 20 से 25 दिनों में चलना सीख जाते है। हंस अधिकांश समय पानी में बिताता है। यह उन पक्षियों के श्रेणी में आता है जो उड़ना, तैरना, दौड़ना सभी जानता हो।

6. हंस का वजन 15kg तक हो सकता है। हंस 80 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से उड़ सकता है लेकिन एक समय में मात्र 50 मीटर तक ही उड़ सकता है। कुछ प्रजाति के हंस 20 kg तक होते हैं। नर हंस के तुलना में मादा हंस की वजन कम होती है।

7. हंस भोजन के रूप में मछली, घोंगा, कीट पतंगे और मानव द्वारा दी गई बीज को खाते हैं। हंस सर्वाहारी पक्षी हैं।

8. हंस का जीवनकाल 10 से 15 वर्ष के बीच होता है। ट्रम्पेटर प्रजाति का हंस 20 वर्ष तक जीवित रहता है वही हूपर प्रजाति प्रजाति का हंस 8 से 10 वर्ष तक ही जीवित रहता है।

9. एक रिपोर्ट के अनुसार हंस अपने जीवन साथी के साथ ही अपना समय व्यतीत करता है किसी कारणवश हंस की जीवनसाथी का मृत्यु हो जाता है। तो आगे की जिंदगी हंस अकेले ही काटती है। इसलिए हंस को प्रेम का प्रतीक माना जाता है। भारत में एक ऐसी परंपरा है कि विवाह के समय वर वधु को हंस को देखना रहता है।

10. हिंदू धर्म में हंस को बहुत मान्यता प्राप्त है, क्योंकि माता सरस्वती जी का वाहन है। हंस सबसे ईमानदार पक्षियों की श्रेणी में प्रथम स्थान रखता है।

11. हंस को गाय के किसानों का दुश्मन भी कहा जाता है। एक रिपोर्ट के अनुसार हंस को पानी में मिला हुआ दूध दिया जाए तो वह केवल दूध ही पिता है पानी को अलग कर देता है।

12. जब नर एवं मादा हंस दोनों एक दूसरे के आमने-सामने हो और दोनों का चोंच सटा हो तो उस समय दिल की आकृति बन जाता है जिससे इन दोनों की खूबसूरती और बढ़ जाता है। यह दृश्य काफी मनमोहक होता है।

13. हंस का प्रजनन काल जनवरी से फरवरी माह के बीच होता है। हंस पक्षी मात्र 2 से 3 वर्षों में ही प्रजनन करना शुरू कर देते हैं। हंस एक सामूहिक पक्षी हैं यह समाज के साथ रहना पसंद करती है।

14. कुत्ता, बिल्ली, अशिक्षित लोग यह सब हंस के दुश्मन होते हैं यह सब हंस के बच्चे या उनके अंडे को नुकसान पहुंचाते हैं। कभी-कभी अपने दुश्मनों पर हमला भी कर देती है।

15. हंस के शरीर में लगभग 25,000 पंख होते हैं।

हंस पक्षी की प्रजातियां

पूरी दुनिया में हंस की 7 प्रजातियां पाई जाती थी, लेकिन इनमें से एक प्रजाति विलुप्त हो गया, वर्तमान में 6 प्रजातियां पाई जाती है। अफ्रीका एवं अंटार्कटिका महाद्वीप में हंस की एक भी प्रजाति नहीं पाई जाती है। हंस की प्रजातियां निम्न दी गई है।

1. टुंड्रा प्रजाति :- इस प्रजाति का हंस बहुत आकर्षक एवं खूबसूरत होती है जो ठंडी जगह में रहना पसंद करती है। यह अमेरिका, कनाडा आदि देशों में पाया जाता है।

2. हूपर प्रजाति :- हंस की इस प्रजाति का जीवनकाल सबसे कम होती है जो 8 से 10 वर्ष के बीच जीवित रहती है। इसका रंग सफेद होता है जिसके वजह से बेहद खूबसूरत दिखती है। इसका निवास स्थान एशिया एवं यूरोप के कुछ देश है।

3. ट्रम्पेटर प्रजाति :- हंस के इस प्रजाति का जीवन काल सबसे अधिक होती है जो 20 वर्ष तक जीवित रहती है इस प्रजाति का मूल निवास स्थान उत्तरी अमेरिका महाद्वीप है।

4. मूक प्रजाति :- हंस के सभी प्रजातियों में सबसे खूबसूरत मुख प्रजाति के हंस होते हैं। जिसके वजह से कुछ देशों में इस प्रजाति के हंस को पाला भी जाता है। इस प्रजाति का मूल निवास स्थान भारत है।

5. काला गला प्रजाति :- यह लड़ाकू प्रजाति है यदि इसके अंडे या बच्चे को कोई नुकसान पहुंचाता है तो उस पर तुरंत आक्रमण कर देता है। इस प्रजाति का मूल निवास स्थान अमेरिका है।

6. काला प्रजाति :- इस प्रजाति का रंग काला होता है और इसकी चोंच लाल रंग की होती है। काला रंग इसको बेहद खूबसूरत एवं आकर्षक बनाती है। इसका निवास स्थान ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, ब्रिटेन आदि देश है।

हंस पक्षी की महत्वपूर्ण जानकारी

नाम – हिंदी में                                       हंस , काला हंस
अंग्रेजी में                                              Swan Bird
वैज्ञानिक नाम –                                     Cygnus
प्रजातियां –                                            6
भोजन –                                                मछली, मेंढक, जलीय जीव आदि
वर्ग –                                                     पक्षी
वंश –                                                    सिग्रस

हंस पक्षी के बारे में 10 अद्भुत जानकारी

1. हंस बहुत सुंदर एवं आकर्षक पक्षी होती है।

2. काला रंग का हंस ऑस्ट्रेलिया देश में पाया जाता है।

3. हंस का वैज्ञानिक नाम Cygnus है।

4. पूरी दुनिया में हंस की 6 प्रजातियां पाई जाती है।

5. हंस दौड़ना, उड़ना, तैरना जानता है।

6. हंस के 25,000 पंख होते हैं।

7. हंस मां सरस्वती जी का वाहन है।

8. पूरी दुनिया की तुलना में सबसे ज्यादा हंस भारत देश में पाया जाता है।

9. हंस को प्यार का प्रतीक माना जाता है।

10. हंस सबसे ईमानदार पक्षी होता है।

इसे भी पढ़े

Weaver Bird Information In Hindi | बया पक्षी की पूरी जानकारी

निष्कर्ष

दोस्तों मुझे आशा है। कि आपको Swan Bird in Hindi की जानकारी बेहद पसंद आया हो अगर हमसे किसी प्रकार की जानकारी छूट गई है। तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।

Leave a Comment