WhatsApp Group Join Now

Zinnia flower in hindi | जिन्निया फुल की पूरी जानकारी

Zinnia flower in hindi :- जय हिंद दोस्तों, जिन्निया एक ऐसी फूल है, जिसको लोग घर के बगीचे में लगाना अत्यधिक पसंद करते है। यह बगीचे का शोभा बढ़ाने के साथ- साथ काफी सुगंधित है जो मन को मोह लेता है। इसकी मौजूदगी दुनिया के हर एक देश में है। जिन्निया फुल का वैज्ञानिक नाम zinnia है जो अपना संबंध Asteraceae परिवार से रखता है। जिन्निया फुल ग्रीष्मकल में खिलती है। इसकी कुल 22 प्रजातियां है, जिनमें से अधिकांश उत्तरी अमेरिका में उपस्थित है। जिन्निया फुल को बहुत आसानी से उगाया जा सकता है जिनके बारे में आगे बात करेंगे।
आज इस लेखन में हमलोग Zinnia flower in hindi से संबंधित जितने भी जानकारी एवं महत्वपूर्ण बातें है। इन सब के ज्ञान की गहराइयों में जाएंगे और Zinnia flower से संबंधित जानकारी को आसान भाषा में समझने की कोशिश करेंगे बस आप अंत तक बन रहे।

जिन्निया फुल की महत्वपूर्ण जानकारियां । Most Information of Zinnia flower in hindi

पौधा :- 25 से 30 इंच लम्बा एवं चौड़ा होता है जिन्निया का पौधा जो दिखने में हरे रंग का हो सकता है।

पत्ते :- जिन्निया के पत्ते बेहद आकर्षक होने के साथ-साथ नोकदार होते है जो हरे एवं हल्के पीले रंग का होता है और आकार एवं बनावट में अंडाकर देखा गया है।

फूल :- जिन्निया फूल कर्मानुसार खिलता है, इसके कुल 12 पंखुड़ियां होते है। जो दिखने में बैंगनी, नारंगी, लाल, पीला, सफेद, गुलाबी आदि रंगों का हो सकता है। जिन्निया फूल की अधिकांश प्रजातियां ग्रीष्मकल में खिलना पसंद करती है।

जिन्निया फुल का नाम जर्मन के महान वनस्पतिशास्त्री जोहान गोटाफ्राइड ज़िन के सम्मान में रखा गया है।

जिन्निया फुल का मूल निवास स्थान अमेरिका है। पहली बार एक अंग्रेज अधिकारी अमेरिका से जिन्निया फुल को इंग्लैंड लेकर आए और वहीं से यह फूल विश्व विख्यात हुआ।

कुछ देशों में जिन्निया फुल को दोस्ती एवं प्यार का प्रतीक माना जाता है।

Zinnia flower

 

जिन्निया फुल की महत्वपूर्ण प्रजातियां । Most Important species of Zinnia flower in hindi

जिन्निया फुल मुख्यता अमेरिका के बड़े घास के मैदाने में पाए जाते है। इसकी मौजूदगी पूरी दुनिया में है। जिसमे कुल 22 प्रजातियां मौजूद है। इस लेखन में इन्ही महत्वपूर्ण प्रजातियों के बारे में जानने वाले है।

1. Desert zinnia flower। रेगिस्तानी झीननिया फुल :- जिन्निया फुल की यह बारहमासी पौधा है। इसको रेगिस्तानी जिन्निया के नाम से भी जाना जाता है। रेगिस्तानी झीननिया का मूल निवास स्थान मेक्सिको, अमेरिका आदि देश है।

2. Common zinnia flower । सामान्य झीननिया फूल :- जिन्निया फुल कि यह सबसे खूबसूरत प्रजाति है। जो भारतीय उपमहाद्वीप में भी पाया जाता है। वास्तव में इसका मूल निवास स्थान उत्तरी अमेरिका है।

3. Peruvian zinnia flower । पेरूवियन झीननिया फूल :- जिन्निया फुल की इस प्रजाति का उपयोग सजावट के रूप में की जाती है। इसका मूल निवास स्थान दक्षिणी अमेरिका है।

4. Angustifolia zinnia flower । अंगूस्टिफोलिया झीननिया फूल :- जिन्निया फुल की यह प्रजाति औषधि रूप से परिपूर्ण है। इसका निवास स्थान मेक्सिको है।

जिन्निया फुल को घर में कैसे तैयार करें।

गमला :- 1 से 1.5 फीट लंबा एवं 0.5 फीट चौड़ा गमला, जिसमें जल निकासी का जगह हो उसका चुनाव करना है।  आगे

बीज :- अच्छी गुणवत्ता वाली बीज आप आसपास के एग्रीकल्चर दवाखाना एवं कृषि विभाग से प्राप्त कर सकते है।
              आगे

मिट्टी :- काली एवं लाल मिट्टी उपयुक्त मानी जाती है इनकी पीएच मान 5 से लेकर 7 के बीच होने चाहिए
             आगे

बीज रोपण :- सामान्य मिट्टी एवं घरेलू खाद के मिश्रण को गमले के 75% हिस्से में भर देनी है और मिट्टी के 1 से 1.5 इंच अंदर बीज को अंदर डाल देनी है। इसके पश्चात 5% और मिट्टी के मिश्रण को डालनी है।
            आगे

पानी :- बीज रोपाई के एक दिन बाद ही पानी का छिड़काव करें। इसके पश्चात जब भी पानी की आवश्यकता हो तब पानी का छिड़काव कर दें। मात्र 6 से 7 दिनों में बीज अंकुरित होने लगेगा।

Zinnia flower

जिन्निया फुल के पौधे का देखभाल, रोग एवं उपचार

देखभाल

  • पौधे में प्रतिदिन कम से कम 4 से 5 घंटे धूप लगने देनी है जिसमे सूर्योदय एवं सूर्यास्त का धूप होना अति आवश्यक है।
  • पौधे के आसपास साफ सफाई करते रहना चाहिए।
  • 50 से 55 दिनों में फूल निकालना प्रारंभ होता है उस समय पौधे में पत्तियां अधिक बड़े हो जाते है तो उस वक्त आपको पत्तियों की छटनी करनी है ताकि पौधे में किसी प्रकार का रोग प्रवेश ना कर सके।
  • पौधे नियमित रूप से नहीं बढ़ रहे है, तो आप डॉक्टर के सलाह पर जैविक खाद का प्रयोग कर सकते है।

रोग
खस्ता फफूंदी :- यह पेड़ पौधे में होने वाला एक सामान्य बीमारी है जो पौधे के जड़ एवं पत्ते को प्रभावित करता है।

निवारण :- 20 ग्राम बेकिंग सोडा के साथ 10 ग्राम तरल साबुन के मिश्रण को आप स्प्रे बोतल के सहायता से पत्तियों में डाल देनी है। यह एक घरेलू उपाय है जिसका उपयोग आप कर सकते है। अन्यथा डॉक्टर की सलाह ले सकते है।

रोग
रस्ट फंगस :- रस्ट फंगस पत्तियों में होने वाली है एक रोग है जिसमे पत्तियों के बीच में पीले रंग का दाग आ जाता है। यह एक संक्रामक रोग है जो हवा, पानी आदि से फैलता है।

निवारण :- नज़दीकी दवा खाना से एजोक्सीस्ट्रोबिन नामक दवा को पौधे में छिड़काव करें। आसपास दूसरे पौधे को ना लगाए।

रोग
लीफ स्पॉट :- अगर पत्तियों में काले एवं भूरे रंग के दाग धब्बे हो रहे है तो पत्तियों में लीफ स्पॉट नामक रोग हो चुका है अगर समय रहते इसका इलाज न करें तो पत्तियों को 90% तक नष्ट कर सकता है।

निवारण :- जल जमाव को कम करें। नियमित रूप से धूप लगने दे। पौधे को वैसे स्थान में रखें जहां वायु की मात्रा अधिक हो। समय-समय पर पत्तियों की छटनी करते रहना है। जब भी आप पौधे को स्पर्श करते है, तो हाथ में ग्लव्स का प्रयोग अवश्य करें।

    कारनेशन फुल की पूरी जानकारी

10 ऐसे प्रश्न जो जिन्निया फुल के बारे मे अक्सर पूछा जाता है।

1. जिन्निया फुल को हिंदी में क्या कहते है?
Ans झीननिया

2. भारत के कौन से राज्य में जिन्निया फुल की खेती की जाती है?
Ans उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, असम, गुजरात, महाराष्ट्र राज्यों में खेती करने का अनुमान है।

3. जिन्निया फुल अपना संबंध किस परिवार से रखता है?
Ans Asteraceae

4. जिन्निया फुल का वैज्ञानिक नाम क्या है?
Ans zinnia

5. जिन्निया फूल का नाम जिन्निया किसके सम्मान में रखा गया है?
Ans जोहान गोटाफ्राइड ज़िन

6. जिन्निया फूल मूल निवास स्थान कहां है?
Ans उत्तरी अमेरिका एवं दक्षिणी अमेरिका

7. जिन्निया फूल विश्व विख्यात कब हुआ?
Ans 17वी शताब्दी के आरंभ में

8. जिन्निया फूल घर में लगाने से क्या होता है?
Ans जिन्निया फूल बेहद आकर्षक एवं खूबसूरत होने के साथ-साथ काफी सुगंधित होती है जिसको सूंघने से शरीर में सकारात्मक ऊर्जा की अनुभूति होती है, जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है।

9. जिन्निया फूल के क्या माना जाता है?
Ans दोस्ती एवं प्यार का प्रतीक

10. जिन्निया फूल कुल कितनी प्रजातियां है?
Ans पूरी दुनिया में जिन्निया फूल की कुल 22 प्रजातियां मौजूद है।

दोस्तों मुझे खुशी हुई कि आपने हमारे लेख को अंत तक पड़े मुझे पूरा विश्वास है कि आपको Zinnia flower in hindi जितने भी समस्याएं थी वह सब समाप्त हो गए होंगे।

अगर अनजाने में हमसे किसी भी प्रकार की जानकारी छूट गई है तो आप हमें कमेंट करके अवश्य बताएं।

दोस्तों अगर हमारी जानकारी अच्छी लगी हो तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

जाने कैसा होता है कमल का फूल

Leave a Comment